10 Biggest Mistakes of Stock Market in Hindi | 10 बड़ी गलतिया जो निवेशक हमेशा करते है

10 Biggest Mistakes of Stock Market in Hindi | 10 बड़ी गलतिया जो निवेशक हमेशा करते है

दोस्तों आपको पता है स्टॉक मार्केट में 90% लोगो को नुकशान उठाना पड़ता है जबकि कुछ लोग उसी शेयर मार्केट या स्टॉक मार्केट में करोड़ो रूपए बना लेते है कंपनिया भी सबके लिए सामान रहती है और हर एक इंसान हर कंपनी में इन्वेस्ट कर सकता है फिर ऐसा क्यों है की स्टॉक मार्केट में बहुत कम लोग ही अच्छा पैसा बना पाते है और बाकि लोगो को नुकशान ही उठाना पड़ता है

दोस्तों ये सवाल काफी लोगो के द्वारा पूछा जाता है की इन्वेस्टर इन्वेस्ट करते समय 10 सबसे बड़ी गलतिय कैसे करते है और करते है तो इसका हल क्या है कैसे इस नुकशान से बच सकते है आज इस आर्टिकल के माध्यम से आपको हम ये बताने वाले है 10 बड़ी गलतिया जो निवेशक हमेशा करते है (10 Biggest Mistakes of Stock Market in Hindi) जो आपको नहीं करना चाहिए

दोस्तों ज्यादातर लोगो को इन्वेस्टिंग की 10 सबसे बड़ी गलतिय के बारे में नहीं पता रहता है और जाने अनजाने में लोग ये 10 गलतियों को बार बार करते है और अपने खुद के ही दुश्मन बन जाते है और येसे बहुत ही कम लोग है जो इन गलतियों को अच्छे से समझते है

10 Biggest Mistakes of Stock Market in Hindi :

दोस्तों आईये जानते है वो 10 गलतियों को जिनकी वजह से हमें स्टॉक मार्केट में लोस होता है और जिन्हें अगर हम सही से समझ ले तो इस नुकशान से बचकर स्टॉक मार्केट में बहुत सारे पैसे बना सकते है

1 इन्वेस्टिंग को जुआ समझना (investing is gambling) :

दोस्तों इन्वेस्टिंग को लोग जुआ समझते है उन्हें लगता है की इन्वेस्टिंग पैसे कमाना और गवाना ये हमारे लक पर होता है और वो लोग यही सोचकर किसी भी कंपनी में इन्वेस्ट नहीं करते है उन लोगो का मानना यही होता है की अगर किस्मत अच्छी रहेगी तो पैसे बन जायेंगे वरना कोई बात नहीं दोस्तों येसा बिलकुल भी नहीं है इन्वेस्टिंग एक क्राफ्ट है और इसमें आप समय के साथ साथ सिख सकते है स्टॉक मार्केट में इन्वेस्टिंग का सीधा मतलब होता है

किसी कंपनी में पार्टनर बनना और हम सोच समझ कर किसी कंपनी में निवेश करेंगे तो जैसे जैसे कंपनी अपना प्रॉफिट बढ़ाते जाएगी हमें भी प्रॉफिट होते जायेगा और अगर हम किस्मत के भरोसे लोस करने वाली कंपनी में पैसे लगायेंगे तो हमें बस नुकशान हो होगा तो आपको इन्वेस्ट करने से पहले कंपनी के बिजनेस को देखते हुए इन्वेस्ट करना चाहिए किसी भी कंपनी के फंडामेंटल को अच्छे से समझना होता है तभी आप एक अच्छी इन्वेस्टिंग कर सकते है

  • शेयर मार्केट और क्रिप्टो से जुडी जानकारी पाने के लिए आप हमारे telegram चैनल से जुड़ सकते है निचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करके आप हमारे telegram चैनल को ज्वाइन कर सकते है
telegram 2

2. शेयर क्या है इसे नहीं समझना (what is share) :

दोस्तों शेयर लोग एक लोटरी टिकेट समझते है उन्हें लगता है उन्होंने 100 की लोटरी टिकेट खरीदी है जिसकी किम्मत अपने आप 10 हज़ार रूपए हो जाएगी लेकिन येसा बिलकुल नही है शेयर एक कंपनी का छोटा सा हिस्सा होता है और जब हम शेयर को खरीदते है तो हम उस कंपनी के छोटे से पार्ट ओनर बन जाते है अगर हम टाटा मोटर के शेयर ख़रीदे है तो इसका मतलब है की अब हम अपने शेयर के हिस्से के बराबर के टाटा मोटर के मालिक बन गए है

और जैसे जैसे टाटा मोटर कंपनी ग्रो करते जाएगी वैसे वैसे हमारे शेयर की वैल्यू भी बड़ते जाएगी तो दोस्तों हमेशा ध्यान रखे की शेयर एक लोटरी टिकेट नहीं है बल्कि कंपनियों के छोटे छोटे पार्ट है और पार्ट की वैल्यू तभी बढती जाएगी जब पूरी कंपनी की वैल्यू बढती जाएगी

3. पैसे कमाने की जल्दी करना (fast to make money in share market)

अक्सर लोगो स्टॉक मार्केट को एसी मशीन समझते है जो पैसे को जादुई तरीके से बढाती है और येसा सोचना बिलकुल गलत है स्टॉक मार्केट में पैसा तभी बनता है जब हमने जिस कंपनी के शेयर ख़रीदे है वो कंपनी पैसे बनाये कितनी एडवाइसरी कंपनिया sms और call करके लोगो को हफ्ते या महीने में 100% profit करवाने का ऑफर देती है और हर रोज लाखो लोग पैसे कमाने के चक्कर में आकर इनके जाल में फसकर अपना पैसा गवाते है

दोस्तों दुनिया के सबसे आमिर व्यक्ति वारेन बफेट साल की 19% ही रिटर्न बनाते है और वो येसा पिछले 50 साल से करते आये है पैसे एक बार में ज्यादा रिटर्न ही नहीं बल्कि लगातार छोटे छोटे रिटर्न से बनते है तो आपको पैसे कमाने के चक्कर में गलत इन्वेस्ट नहीं करना चाहिए.

4. बिना नालेज और रिसर्च किये इन्वेस्ट करना (without Knowledge for investing)

दोस्तों कुछ लोग शेयर इसलिए खरीद लेते है क्योकि उन्होंने TV चैनल पर या दोस्तों से या पेपर में कंही तो दिखाया जाता है की उस शेयर को खरीदना चाहिए दोस्तों येसा करना हमारे पैसो के लिए काफी खतरनाक साबित हो सकता है हमें बिना सोचे समझे और रिसर्च किये किसी भी स्टॉक में इन्वेस्ट नहीं करना चाहिए , short term में भले ही थोडा पैसे बन जाए पर long term में इसमें हमें हमेशा नुकशान ही होता है येसा नहीं है की सलाह से बिलकुल शेयर नहीं खरीदना चाहिए और चाहे आपके अपने दोस्त या रिलेटिव ने किसी शेयर के बारे में बताया हो हमेशा शेयर खरीदने से पहले खुद से उस कंपनी के बारे में रिसर्च करना चाहिए.

कंपनी की पूरी नालेज लेना चाहिए जैसे कंपनी क्या करती है कैसे profit कितना कमाती है और कंपनी का फ्यूचर में क्या ग्रोथ है उस कंपनी के बराबरी में दूसरी कौनसी कंपनी है और क्या वो कंपनी अपने उस कंपनी से आगे निकल सकती है तो ये सारी जानकारी आप उस कंपनी की वेबसाइट या गूगल पर पड़ सकते है

5. लालच में शेयर खरीदना (greedy for share buy) :

ज्यादातर लोग शेयर इसलिए खरीद लेते है क्योकि उसकी प्राइस वैल्यू बाद रही होती है दोस्तों येसा करना कंही से भी इन्वेस्टमेंट को नहीं दर्शाता अगर हमें कोई bike खरीदना हो उसकी प्राइस 80 हज़ार से 1 लाख हो जाये तो क्या हम उस bike को खरीदेंगे तो बिलकुल नहीं और हम स्टॉक मार्केट में यही काम करते है जब कोई शेयर 20 रूपए से 30 रूपए जाता है तो हम उसे खरीदने के लिए पीछे पड़ जाते है और येसा होता है हमारे लालच के कारण.

हम देखते है की शेयर की प्राइस 20 रूपए से 30 रूपए हो गयी है और अगर अभी हमने 30 रूपए से शेयर buy नहीं किया और ये 40 रूपए हो गया तो हम 10 रूपए का profit गवा देंगे . दोस्तों स्टॉक मार्केट की भाषा में इसे (FOMO) फोमो कहते है यानी fear of missing out ये आम भाषा में कहे तो बहती गंगा में हाथ ना धोने का डर .

वारेन बफेट ने कहा है की कोई स्टॉक इसलिए buy करना क्योकि उसकी प्राइस बड रही है ये एक बहुत बड़ी मुर्खता है अच्छे इन्वेस्टर्स बढती प्राइस के स्टॉक को नहीं बल्कि बड़ते प्रॉफिट वाले कंपनियों के स्टॉक को buy करते है इसलिए हमें किसी कंपनी में तभी इन्वेस्ट करना चाहिए जब उसके फ्यूचर में अपने profit को 10 गुना या 50 गुना करने की प्रबल सम्भावनाये हो.

6. डर कर शेयर को सेल कर देना :

ज्यादातर इन्वेस्टर उन शेयर को जल्दी बेच देते है जिनकी प्राइस कम होने लगती है और येसा करना बिलकुल गलत है दोस्तों अगर हमने छोटी कंपनी 1 लाख रूपए में buy किया है और उसी के जैसी कोई दूसरी कंपनी कुछ हफ्ते में 80 हज़ार में सेल होने लगे तो क्या हम अपनी कंपनी को सेल कर देंगे और हम येसा नहीं करंगे और हम स्टॉक मार्केट में बिलकुल यही करते है और येसा इसलिए नहीं करते है क्योकि हम शेयर को उसके प्राइस से देखते है वह शेयर असल में कंपनी का एक छोटा सा पार्ट होता है

अगर हमने अच्छी कंपनी के शेयर buy किये है और वो कंपनी अपने प्रॉफिट को बढाती जा रही है इससे कोई फर्क नहीं पड़ता की उसकी शेयर की प्राइस short term में कहा जा रही है क्योकि दोस्तों जैसे हमने कहा long term में हर कंपनी के शेयर की प्राइस उस कंपनी के प्रॉफिट को फॉलो करती है और short term में शेयर की प्राइस लोगो के लालच या डर से उपर या निचे होती है और इसका कंपनी के बिजनेस से कोई लेना देना नहीं होता है असल में जब भी अच्छी कंपनी के शेयर की प्राइस कम हो हमें उनके शेयर और तेज़ी से buy करने चाहिए.

7. सयम ना रखना (take a patience) :

दोस्तों कई बार येसा होता है की हम जानकर भी अनजाने में बहुत अच्छी कंपनी के शेयर खरीद तो लेते है और उसे जल्दी सेल कर देते है और फिर वो शेयर कुछ सालो में 20 गुना या 100 गुना हो जाता है हम अक्सर शेयर्स को buy करके रोज उसकी प्राइस चेक करते है और येसे में हम थोडासा लोस होने का डरकर फिर थोडा सा प्रॉफिट होने पर शेयर को सेल कर देते है और येसा करना बहुत ही नुकसान दायक हो सकता है

दोस्तों इनफ़ोसिस कंपनी पिछले 5 सालो में 5 हज़ार गुना बड़ी हो गयी है क्या सारे शेयर्स होल्डर के पैसे भी 5 हज़ार गुना हुए है बिलकुल नहो दोस्तों केवल वही इन्वेस्टर के पैसे 5 हज़ार गुना हुए है जिन्होंने इनफ़ोसिस के शेयर को 1993 में buy किया था और यूज़ आज तक नहीं बेचा और येसा तो है नहीं की वह शेयर 26 साल में कभी निचे नहीं गयी हो फिर भी in इन्वेस्टर ने अपने शेयर्स नहीं बेचे क्योकि उन्हें पता था की इनफ़ोसिस के शेयर की प्राइस कम हुयी थी बिजनेस कम नहीं हुआ था.

8. अपनी गलतियों का जल्दी मानना :

अक्सर हम बेकार कंपनियों के शेयर्स buy कर लेते है और फिर उसकी प्राइस तेज़ी से निचे चली जाती है तो हम उसे सेल नहीं करते है और इस उम्मीद में रहते है की शेयर की प्राइस कभी ना कभी वापिस उपर जरुर आएगी हम आइसे में अपनी गलती नहीं मानते है की हमने गलत शेयर को buy किया है और उस शेयर को लेकर फसे रहते है दोस्तों हमें लगता है हम जो भी शेयर्स चुने वो शेयर 100 गुना हो जाये पर असल में ऐसा नहीं होता है सबसे सक्सेसफुल इन्वेस्टर भी 10 बार में 5 बार ही अच्छी कंपनी को चुन पाते है

9. स्टॉक मार्केट को नहीं समझना :

दोस्तों कई सारे इन्वेस्टर जाने अनजाने में स्टॉक मार्केट के गुलाम बन जाते है और इसी वजह से स्टॉक मार्केट में शेयर गलत प्राइस में buy और sell करते है इन्वेस्टिंग के भगवान माने जाने वाले बिन्जमिन ग्रैहम ने अपनी बुक the Intelligent investing इन्वेस्टर की सबसे बड़ी कमजोरी होती है की वो स्टॉक मार्केट की बातो में आ जाते है.

10. power of compound को नहीं समझना :

हम सम्बे बचपन में compound Interest समझा है और हम स्टॉक मार्केट में हम इसे समझ नहीं पाते है अल्बर्ट आइस्तिन ने कहा है कोम्पौन्डिंग दुनिया का 8 वा अजूबा है

दोस्तों अगर हमें 2 चॉइस मिलेगी हम या तो 30 दिन तक 1 करोड़ रूपए ले या पहले दिन 1 रूपए ले जो अगले 29 दिनों तक डबल होता रहेगा तो हम पहले आप्शन को चुनेगे हमारा दिमाग ये तो कैलकुलेट कर लेगा की पहले आप्शन से हमारे पास महीने के लास्ट में 30 करोड़ रूपए आ जायेंगे और हमारा दिमाग ये कैलकुलेट नहीं कर पायेगा की अगर हम 1 रूपए से सुरु करके रोज उसे डबल करे तो 30 दिन बाद हमारे पर 53 करोड़ रूपए हो जायेंगे तो इसी को हम power of compounding कहते है और हर सफ़र इन्वेस्टर पॉवर ऑफ़ कोम्पौन्डिंग बड़े अच्छे से समझते है.

निष्कर्ष :

दोस्तों स्टॉक मार्केट में अगर 90% लोग पैसे गवाते है तो उसकी वजह ये 10 गलतिया है अब जब ये सारी गलतिया मालूम है तो हम उम्मीद करते है की आप इन गलतियों को बिलकुल नहीं करेगे आप अच्छी कंपनियों को सर्च करे और उनमे इन्वेस्ट करे और उनके profit और growth पर जरुर ध्यान रखे आप बिलकुल इन्वेस्टिंग में सफल होंगे. दोस्तों हमारे द्वारा बताई गयी जानकारी (10 Biggest Mistakes of Stock Market in Hindi) आपको कैसी लगी आप कमेंट बॉक्स में बता सकते है

इन्हें भी पड़े :

Leave a Comment

Your email address will not be published.

10 Biggest Mistakes of Stock Market Investors in Hindi Cryptocurrency me investment kaise kare Top 10 upcoming IPO in 2022 Bitcoin Price History list Lump Sum Investment in Hindi Top 10 Financial Planning in Hindi
10 Biggest Mistakes of Stock Market Investors in Hindi Cryptocurrency me investment kaise kare Top 10 upcoming IPO in 2022 Bitcoin Price History list Lump Sum Investment in Hindi Top 10 Financial Planning in Hindi