Supriya LifeSciences IPO Opening Date, IPO price, issue size, OFS, Review In Hindi

Supriya LifeSciences IPO Opening Date, IPO price, issue size, OFS, Review In Hindi

Supriya LifeSciences IPO :

आज हम आपको supriya Life science ipo के बारे में बताने वाले है इस ipo का lot size कितना है ओपनिंग और क्लोजिंग डेट क्या है, ब्रांड प्राइस ,इशू साइज़ ,आईपीओ प्राइस, ऑफर फॉर सेल क्या है ये सभी जानकारी इस आर्टिकल में मिलने वाली है हमने आपको step by step बताया है-

supriya lifescience कंपनी के बारे में :

मुंबई बेस्ड कंपनी सुप्रिया लाइफ साइंस अपना आईपीओ लेकर आ रही है इस आईपीओ का सब्सक्रिप्शन 16 दिसम्बर को खुल चूका है सुप्रिया लाइफसाइंस सक्रिय फार्मास्युटिकल सामग्री एपीआई (Active Pharmaceutical Ingredients APIs) की निर्माता कंपनी है, पिछले कुछ सालो में कंपनी की income of source मजबूत रहा है, सुप्रिया लाइफसाइंस भारत में सालबुटामोल सल्फेट (Salbutamol Sulphate) की सबसे बड़ी निर्यातक कंपनी है, जो भारत में निर्यात वॉल्यूम में 31% का योगदान करती है इस आईपीओ में कंपनी का इशू साइज़ 700 करोड़ का है जिसमे फ्रेश इशू 200 करोड़ और ऑफर फॉर सेल 500 करोड़ का है.

supriya lifescience फार्मा इंडस्ट्रियल के लिए active pharmaceuticals ingredients और APIs manufacture करती है कंपनी अभी 38 APIs बनाती है जो therapeutic, segments- antihistamine analgesic, anesthetic, vitamin, anti-asthma और anti-allergic जैसे अलग अलग therapeutic सेगमेंट में काम आते है 346 डिस्ट्रीब्यूटर के थ्रो कंपनी के प्रोडक्ट्स 86 देशो में 1296 कस्टमर को export किये जाते है फाइनेंसियल इयर 2021 में 77.47% रेवेनु export से आये थे.

supriya lifescience IPO Details :

IPO Opening Datedec. 16, 2021
IPO closing date dec. 20 ,2021
Issue TypeBook Built Issue IPO
IssuerSupriya Lifescience Limited
Face ValueRs.2 per Equity Share
IPO price₹265 to ₹274 Per Share
Market Lot54 Shares
Minimum order quantity 1 lot
Listing atNSE & BSE
listing date 28 dec. 2021
basic of allotment date dec. 23 ,2021
issue size₹700 Crores
Fresh Issue₹200 Cr
Offer for Sale₹500 Cr
Retail Individual Bidders10% of the issue size
QIB75% of the issue size
NIB15% of the issue size

कंपनी की वित्तीय जानकारी (Supriya Lifescience Company Financials) :

ParticularsFor the year/period ended (₹ in Millions)
30-september-2130-march-2130-march-2030-march-19
 Total Assets5,041.024,458.243,364.012,530.52
Total Revenue2,300.613,962.213,227.132,858.62
Profit After Tax659.591,238.28733.74394.24

Supriya Lifescience IPO Market Lot:

  •  Lot Size – Minimum 54 Shares & Maximum 702 Shares
  • Minimum Amount – ₹14,796
  • Maximum Amount – ₹192,348

Supriya Lifescience IPO Allotment date & Listing date :

 Basis of Allotment dateDec. 23, 2021
 Refunds dateDec. 24, 2021
 Credit to Demat Account dateDec. 27, 2021
 Listing Date dateDec. 28, 2021

supriya lifescience का फाइनेंसियल इयर 21 geographic revenue distribution कुछ इस तरह से था :

asia (excluding india)29.27%
india 22.53%
latin america19.15%
europe17.4%
north america4.76%

supriya lifescience india larger exporter है फाइनेंसियल इयर 2021 में chlopheniramine maleate and ketamine hydrochloride molecules के लिए जिनमे इनका मार्केट शेयर 72% और 58% था कंपनी salbutamol sulfate के export में भी 30 से 40 % मार्केट शेयर रखती है और विटामिन b 2 riboflavin lactoplavin के export में 25 से 30 % मार्केट शेयर रखती है.

supriya lifescience इस आईपीओ से अपनी सेलिंग शेयर होल्डर्स को एग्जिट प्रोवाइड कर रही है fress proceed से कंपनी अपने capex plan और debt repayment को फाइनेंस करना चाहती है.

इस कंपनी में इन्वेस्ट करने के pros कुछ इस प्रकार से है :

  • कंपनी का सबसे बड़ा एडवांटेज इनकी maturity प्रोडक्ट की मैन्युफैक्चरिंग Backwards Integrated है फाइनेंसियल 2021 में इनके बैकवर्ड इंटिग्रेटेड molecules से 67 % रेवेनु आये थे इस बैकवर्ड Integration से कंपनी को बहुत फायदा होता है जैसे की-
  • रॉ मटेरियल सौरेस के लिए एक्सटर्नल सोर्स से इंटरनल independ होना
  • raw material cost volatility से shielded रहना
  • raw material की क्वालिटी और availability assurance अपने कण्ट्रोल में होना
  • फार्म कंपनी के लिए backward Integration एक बहुत बड़ा एडवांटेज है जहा इंडस्ट्री के 70-80% रॉ मटेरियल required Import होते है और रॉ मटेरियल कास्ट ओवरआल एक्स्पंसिवे 45-55% के लिए Responsible है कंपनी का largest revenue generating vision india है जहा हेल्थ केयर और medicine pending में काफी under Penetration’s है

supriya lifescience investment cons :

कंपनी की financial years FY21 में top 3 और top 5 प्रोडक्ट ने 50% और 60% का Revenue generate हुए थे इससे पता चलता है की supriya lifescience में product concentration risk है जहा इनके top 3 या top 5 प्रोडक्ट में किसी में भी मार्केट हुआ तो कंपनी की परफॉरमेंस और एअर्निंग को बहुत बड़ा नुकसान हो सकता है सामान रूप से देखे तो कंपनी के top 3 और top 10 कस्टमर को फाइनेंसियल 2021 में 21.6% और 41.1% revenue मिले थे

कंपनी के पास किसी भी कस्टमर के साथ long term कांटेक्ट नहीं है जिसके कारण इनके पास minimum demand या product sales का insurance और contract Protection नहीं है फार्म सेक्टर एक बहुत ही रेगुलेटर इंडस्ट्री है जिसमे export कंपनी को हर export Destination के ड्रग बॉडी जैसे की USA में FD है सिर्फ रेगुलेटरी अप्रूवल लेना होता है export सुरु करने से पहले ये रेगुलेटरी अप्रूवल काफी स्ट्रिक्ट टाइम कांसुमिंग होते है और कोई भी Non-compliance या inspection failure से कंपनी को भारी नुकसान हो सकता है

इन्हें भी पड़े :

Leave a Comment

Your email address will not be published.

10 Biggest Mistakes of Stock Market Investors in Hindi Cryptocurrency me investment kaise kare Bitcoin Price History list Top 10 Financial Planning in Hindi Lump Sum Investment in Hindi
10 Biggest Mistakes of Stock Market Investors in Hindi Cryptocurrency me investment kaise kare Bitcoin Price History list Top 10 Financial Planning in Hindi Lump Sum Investment in Hindi