Market Capitalization क्या होता है | Market Cap Meaning In Hindi

Market Capitalization क्या होता है 2022 | Market Cap Meaning In Hindi

Market Capitalization क्या होता है (Market Cap Meaning In Hindi) :

Capitalization जिसे कि मार्केट कैप भी कहा जाता है यह कंपनी के बचे हुए शेयरों का सबसे हालिया बाजार मूल्य होता है, यह किसी कंपनी के सभी शेयरों के कुल मूल्य को दर्शाता है अर्थात वर्तमान समय में उस कंपनी की बाजार कीमत कुल कितनी हो सकती है शेयर के विशेषज्ञ मार्केट cap. का अध्यन करके शेयरों में पैसा लगाते हैं और इस प्रकार से वे अच्छा मुनाफ़ा कमाते हैं |

Market Cap Meaning in Hindi – 

Market Cap Meaning In Hindi : market capitalization दो शब्दों से मिलकर बना है market यानी कि बाजार और capitalization मतलब पूंजीकरण  इस प्रकार मार्केट कैपिटलाइजेशन का मतलब हवा कि बाजार पूंजीकरण

Market Capitalization के प्रकार (type of Market Capitalization in Hindi) :

Type of Market Capitalization in Hindiमार्केट कैप को सरलता से अध्ययन करने और समझने के लिए इसे मुख्यतः तीन श्रेणियों में विभाजित किया जता है –

  • small Cap :

यह 300 मिलियन डॉलर से 2 बिलियन डॉलर के बाजार मूल्य वाली कम्पनियां होती हैं,  हमारे देश में 5000 करोड़ से कम बाजार मूल्य वाली कंपनियों को स्माल कैप की श्रेणी में रखा जाता है, यह वे छोटी कम्पनियां है जिन्होंने अभी हाल में ही अपनी प्रारंभिक शुरुआत को सार्वजनिक किया है, यह जोखिम भरी है क्योंकि मंदी के दौर में इनके डिफ़ॉल्ट होने की संभावना बहुत अधिक होती है, लेकिन वहीं दूसरी तरफ इनके पास बढ़ने के लिए बहुत जगह है, और वे भविष्य में बहुत लाभदायक भी सिद्ध हो सकते हैं, यानी कि वे भविष्य की लार्ज कैप कंपनी भी हो सकती है,       

वास्तव में कई स्माल कैप कम्पनियां मजबूत ट्रैक रिकार्ड और अच्छी वित्त व्यवस्थाओं के साथ स्थापित व्यवसाय के साथ भी हैं और इनके शेयर की कीमतों में वृद्धि की अधिक संभावना है, यह निवेशकों को विकास के लिए अधिक जगह प्रदान करती है लेकिन लार्ज कैप कंपनियों की तुलना में अधिक जोखिम और अस्थिरता भी लाती है, स्माल कैप के छोटे स्टॉक को माइक्रो कैप के रूप में जाना जाता है, जिसका बाजार पूंजीकरण लगभग 50 मिलियन डॉलर से 300 मिलियन डॉलर है,

स्माल कैप आर्थिक चक्र के शुरुआती दौर में अच्छा प्रदर्शन करते हैं अपने निवेश पर अधिक रिटर्न चाहने वाले निवेशक आमतौर पर स्माल कैप के शेयरों में निवेश करते हैं, स्माल कैप के शेयरों का मूल्य कम होता है, लेकिन यह दो या तीन गुना तेजी से बढ़ सकता है, और ये मल्टी बैगर बनकर 100% से भी अधिक का रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं स्माल कैप में लम्बी अवधि का निवेश लाभप्रद रहता है|

  • Mid cap :

यह दो बिलियन ( दो अरब ) डॉलर से दस बिलियन डॉलर के बाजार मूल्य वाली कम्पनियां है, भारत में 5000 करोड़ से लेकर 20000 करोड़ तक बाजार पूंजी वाली कंपनियों को मिड कैप की श्रेणी में रखा जाता है, जो निवेशक सर्वश्रेष्ठ चाहते हैं वे मिड कैप कंपनियों पर ही निवेश करना पसंद करते हैं, क्योंकि ये कम्पनियां स्माल कैप कंपनियों की तुलना में अधिक स्थिर होती हैं, और लार्ज कैप कंपनियों की तुलना में अधिक विकास की गुंजाइश रखती हैं, और जैसा कि नाम से ही स्पष्ट होता है कि यह लार्ज कैप और स्माल कैप के बीच में आती है,

मिड कैप कंपनियों की कुछ आकर्षक विशेषताएं यह होती हैं कि उनसे लाभ और बाजार की हिस्सेदारी बढ़ने की हमेशा उम्मीद रहती है, क्योंकि ये अपने विकास के चक्र के बीच में हैं, वैसे तो स्माल कैप अधिक विकाश करने की क्षमता रखते हैं लेकिन इनमें जोखिम सबसे अधिक है, इसी प्रकार से लार्ज कैप सबसे अधिक स्थिरता देने वाले होते हैं लेकिन इनमें विकास की संभावना बहुत कम होती है, लेकिन मिड कैप इन दोनों का प्रतिनिधित्व करता है इसलिए इसमें विकास और स्थिरता दोनों समान रूप से आते हैं, 

मिड कैप कंपनियों के कई फायदे हैं, जब ब्याज दरें कम होती हैं और पूंजी सस्ती होती है तब मिड कैप कंपनियों को बढ़ने के लिए आवश्यक क्रेडिट मिल जाता है, और इस प्रकार वे अच्छा प्रदर्शन कर पाते हैं, मिड कैप स्माल कैप के तरह जोखिम भरा नहीं है इसलिए वे मंदी के समय में भी अच्छा प्रदर्शन करते हैं |

  • large cap :

लार्ज कैप कम्पनियां 10 बिलियन ( 10 अरब ) डॉलर या उससे अधिक के बाजार मूल्य वाली फर्म होती हैं, भारत में 20 हजार करोड़ रूपये से अधिक बाजार पूंजी ( Market Capitalization ) वाली कंपनियों को लार्ज कैप कम्पनियां कहा जाता है तथा इन्हें बिग कैप कम्पनियां भी कहा जाता है,  लार्ज कैप कंपनियों में बहुत ही कम जोखिम होता है, उनके पास ब्यापार में मंदी आने पर इससे उबरने के लिए वित्तीय संसाधन होते हैं, इसके अलावा लार्ज कैप कम्पनियां शेयर धारकों को लाभांश के साथ-साथ बोनस के रूप में पुरूस्कार भी प्रदान करती हैं,

लार्ज कैप कम्पनियां काफी बड़ी कम्पनियां होती हैं ये कम्पनियां अपने विकाश के चरम पर होती हैं, ऐसे में इनमें विस्तार की संभावना कम होती है, लेकिन इसमें निवेश किया गया धन सुरक्षित रहता है, तथा इसमें निवेश जोखिम भी कम रहता है, स्टॉक मार्केट के उतार – चढ़ाव का इन पर कोई ख़ास फर्क नहीं पड़ता है,

भारत की टॉप 20 हाई मार्केट कैप कंपनिया की लिस्ट

भारत की टॉप 20 हाई मार्केट कैप कंपनियों की list इस प्रकार से है –

1 – रिलायंस                                            1,731,349.29

2 – टी सी एस                                           1,216,634.58

3 – एच डी एफ सी बैंक                                   748,698.71

4 – इनफ़ोसिस                                           620,350.56

5 – एच यू एल                                           531,113.36

6 – आई सी आई सी आई बैंक                              489,369.66

7 – एल आई सी इंडिया                                    417,734.47

8 – स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया                                  412,540.17

9 – एच दी एफ सी                                        394,728.82

10 – भारती एयरटेल                                       380,797.56   

11 – बजाज फाइनेंस                                       335,017.29

12 – आई टी सी                                          332,974.38

13 – कोटक महिन्द्रा                                       327,092.68

14 – अदानी ग्रीन एनर्जी                                    306,304.36  

15 – एच सी एल टेक्नोलोजी                                 271,095.14

16 – अदानी टोटल गैस                                     270,129.85

17 – अदानी एंटरप्राइजेज                                    260,989.69

18 – एशियन पेंट्स                                        260,072.09

19 – मारुती सुजुकी                                        256,978.00

20 – अदानी ट्रांसमिशन                                     250,785.06

Market Capitalization की गणना कैसे की जाती है :

किसी कंपनी के MARKET CAPITALIZATION की गणना करने के लिए उस कंपनी के एक शेयर की कीमत से सभी बेचे गए शेयरों की संख्या से गुणा करके की जाती है इसका फार्मूला इस प्रकार है –

Market Cap = current market price of share X total outstanding of share

बाजार पूंजीकरण = वर्तमान शेयर मूल्य X कंपनी द्वारा जारी कुल शेयर्स

MC = N x P

जहाँ MC = कंपनी का Market Capitalization,

     N = उस कंपनी के वर्तमान में कुल शेयरों की संख्या  ( Total no. of shares )

     P = उस कंपनी के एक शेयर का वर्तमान मूल्य  

वर्तमान शेयर प्राइज से यह अभिप्राय है कि सुबह 9.15 AM से लेकर शाम 3.30 PM तक किसी भी कंपनी की जो शेयर प्राइज चल रही है उसे वर्तमान शेयर प्राइज कहते हैं, तथा आउट स्टैंडिंग शेयर से यह अभिप्राय है कि जो कंपनी द्वारा जारी किये गए हैं

    यदि किसी कंपनी का वर्तमान शेयर मूल्य 1000 रु. है और कंपनी द्वारा कुल 10000 शेयर जारी किये गए हैं तो कंपनी का कुल मार्केट कैप 10000000 ( एक करोड़ ) होगा |

Market Capitalization क्यों महत्वपूर्ण है :

शेयर खरीदने के जानकार उसके मार्केट कैपिटलाइजेशन को देखने की सलाह देते हैं, क्योंकि इसका शेयर की कीमतों पर असर पड़ता है  किसी भी शेयर के market capitalization को देख कर उससे मिलने वाले रिटर्न और उन शेयर से जुड़े जोखिम का अंदाजा लगाया जा सकता है, अर्थात इससे किसी भी शेयर का मूल्यांकन आसानी से किया जा सकता है, और आप अपने मूल्यांकन के दौरान सामान आकार की कंपनियों की तुलना कर सकते हैं,और उसमें से बेहतर का चुनाव कर सकते हैं कि हमें कहाँ निवेश करने से लाभ मिलेगा |

निष्कर्ष :

इस लेख के माध्यम से हमने यह जाना कि मार्केट कैप क्या है इसके कितने प्रकार हैं और यह हमारे लिए महत्वपूर्ण क्यों है |

इन्हें भी पड़े :

Leave a Comment

Your email address will not be published.