शेयर बाज़ार में LTP क्या होता है | शेयर बाज़ार में LTP का महत्त्व क्या है ?

शेयर बाज़ार में LTP क्या होता है | शेयर बाज़ार में LTP का महत्त्व क्या है ?

LTP Meaning in Hindi ( LTP क्या होता है ) :

LTP का पूरा नाम ( last traded price ) है जिसका मतलब वह कीमत जिस पर अंतिम या सबसे सुरुआती समय में शेयर को buy और sell किये जाते है

सरल भाषा में समझे तो LTP जब किसी कीमत पर अंतिम व्यापार मतलब अंतिम सोधा जो 3:30 बजे होता है seller और buyer के बिच में तो उसको ही LTP ( last traded price ) कहा जाता है |

मानलीजिये की किसी ने 95 रूपए में एक शेयर खरीदा है फिर किसी और ने वही शेयर 95 रूपए में बेच दिया है इस प्रकार 95 रूपए पर 1 शेयर खरीदा गया और 1 शेयर बेचा गया है तो हम कह सकते है की 95 रूपए पर एक सौदा पूरा हुआ है इसलिए अब उस शेयर का LTP ( last traded price ) 95 है |

मानलीजिये अगला सौदा 110 रूपए पर किया जाता है तो उस समय के लिए LTP 110 रूपए हो जायेगा, इसका मतलब यह है की जिस कीमत पर सबसे latest सौदा किया जायेगा उसे अंतिम कारोबार मूल्य या LTP कहा जायेगा |

शेयर बाज़ार में शेयर की कीमते घटती और बढती रहती है यह सब बाज़ार की मांग (demand) और आपूर्ति (supply) पर आधारित होता है |

डिलीवरी या CNC शेयर को आप जितना समय चाहे अपने पास रख सकते है यह एक तरह का निवेश है |

शेयर बाज़ार में LTP क्या होता है ( LTP in share market ) :

शेयर बाज़ार में LTP का महत्त्व किसी स्टॉक या शेयर को खरीद और बेचने के मूल्य पर आधारित है यह देखते हुए की स्टॉक मार्केट और ट्रेडिंग की पूरी अवधारणा समय के साथ स्टॉक की बदलती कीमतों पर आधारित है शेयर बाज़ार में किसी वस्तुओ में स्टॉक के अंतिम कारोबार के रूप में जाना जाता है यह कर्रेंट प्राइस को बताता है जिस पर यह स्टॉक ख़रीदा और बेचा गया था LTP लगभग हर सेकंड में बदलते रहता है इसलिए LTP को शेयर मार्केट में मुख्य बिंदु माना जाता है |

शेयर बाज़ार में LTP का महत्त्व क्या है (importance of LTP ) :

LTP ( last traded price ) का सबसे बड़ा महत्त्व यह है की LTP से किसी शेयर या स्टॉक के मूवमेंट का पता चल पाना की स्टॉक का ग्राफ निचे जा रहा है क्या ऊपर जा रहा है |

LTP ( last traded price ) की मदत से खरीद और बेचना आसान हो जाता है क्योकि बोली लगाते समय खरीदना और बेचना एक समान रेंज में होता है क्योकि शेयर बाज़ार में उतार चड़ाव हमेशा देखा जाता है इसलिए विक्रेता और बोलीदार वांछित कीमतों पर व्यापार निष्पादित करते है |

जब लोग अधिक ट्रैड करते है तो विक्रेता उस स्टॉक को सटीक आस्क प्राइस में बेचने के लिए तत्पर रहता है जैसा वह चाहते है वैसे ही खरीदार सही बिट प्राइस पर स्टॉक खरीदने की पूरी संभावनाए रहती है |

क्लोजिंग प्राइस और LTP में क्या अंतर है (different of closing price or LTP ) :

जब मार्केट सक्रीय होता है तब LTP ( last traded price ) की मदत से किसी शेयर की प्राइस वैल्यू देख सकते है लेकिन क्लोजिंग प्राइस में जब मार्केट क्लोज होता है तब प्राइस वैल्यू देख सकते है |

3:30 बजे का प्राइस LTP ( last traded price ) होता है और क्लोजिंग प्राइस उस दिन 3 बजे से लेकर तो 3:30 बजे trading होती है उसका औसत प्राइस जो होता है उसका क्लोजिंग प्राइस होता है |

निष्कर्स (conclusion) :

अगर आप शेयर मार्केट में निवेश करते है या करना चाहते है तो आपके लिए LTP को समझना बहुत जरुरी है

उम्मीद करते है आपको LTP के बारे में सम्पूर्ण जानकारी मिल गयी है उम्मीद करते है की आपको LTP Meaning In Share Market In Hindi क्या होता है समझ में आया होगा

FAQ :

Q: LTP का फुलफॉर्म क्या होता है ?

Ans – LTP का फुलफॉर्म Last Traded Price होता है |

Q: शेयर बाज़ार में LTP क्या है ?

Ans – LTP शेयर बाज़ार में किसी स्टॉक के उतार चड़ाव और अंतिम लेनदेन का आकलन करने के लिए एक विशेष मेट्रिक है |

Q: शेयर मार्केट में LTP का क्या मतलब होता है ?

Ans – LTP ( last traded price ) का मतलब होता है हम किसी शेयर की अगली बिक्री करने के लिए तैयार रहते है |

अन्य पड़े :

Leave a Comment

Your email address will not be published.

5 Best Ways to Use a Home Equity Loan The Pros and Cons of Early Retirement 8 Ways to Achieve a Happy Retirement One of the Best Long-Term Crypto Investments: Knowledge U.S. SEC Delays Decision on ARK 21Shares Spot Bitcoin ETF
5 Best Ways to Use a Home Equity Loan The Pros and Cons of Early Retirement 8 Ways to Achieve a Happy Retirement One of the Best Long-Term Crypto Investments: Knowledge U.S. SEC Delays Decision on ARK 21Shares Spot Bitcoin ETF